Samridh Samachar
News portal with truth

- Sponsored -

सभी पाठ्यक्रमों के लिए आईसेक्ट विश्वविद्यालय में ऑनलाइन प्रवेश प्रक्रिया शुरू

Below feature image Mobile 320X100

हजारीबाग :आईसेक्ट विश्वविद्यालय हजारीबाग में सभी पाठ्यक्रमों के लिए ऑनलाइन प्रवेश प्रक्रिया जारी है। अब स्नातक, परास्नातक व अन्य कोर्सों के लिए विद्यार्थी घर बैठे नामांकन ले सकते हैं। इस बाबत जानकारी देते हुए विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ मुनीष गोविंद ने बताया कि कोरोना संक्रमण के मद्देनज़र ऑनलाइन कक्षाएं निरंतर जारी है। उन्होंने बताया कि ऑनलाइन प्लेसमेंट व नि:शुल्क ऑनलाइन कैरियर काउंसलिंग की सुविधाएं भी विद्यार्थियों के लिए मुहैया कराई जा रही है। उन्होंने कहा कि विद्यार्थियों के लिए ऑनलाइन प्रवेश प्रक्रिया विश्वविद्यालय में जारी है। घर बैठे विद्यार्थी ऑनलाइन प्रवेश ले सकते हैं।

विज्ञापन

विज्ञापन

*विद्यार्थी कैसे करें ऑनलाइन आवेदन*
सबसे पहले विद्यार्थियों को www.aisectuniversityjharkhand.ac.in (डब्ल्यू डब्ल्यू डब्ल्यू.आईसेक्टयुनिवर्सिटीझारखंड.एसी.इन) पर जाकर वेबसाइट ओपन करना है। उसके बाद ऐडमिशन विकल्प को चुनकर क्लिक करने के बाद अप्लाइ ऑनलाइन एडमिशन विकल्प पर क्लिक करना है। फिर क्लिक हियर टू फिल ऑनलाइन एडमिशन पर जाकर क्लिक करने के बाद अपना नाम, ईमेलआईडी व मोबाइल नंबर के स्थानों पर विद्यार्थियों को बारी बारी से सभी को भरना है और सेंड ओटीपी पर क्लिक करना है। जिसके बाद दिए गए विद्यार्थी के मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी जाएगा। उस ओटिपी वाले स्थान पर भरकर भेरिफाई विकल्प पर क्लिक करना है, उसके बाद रजिस्ट्रेशन पर क्लिक कर पंजियन की प्रक्रिया पूर्ण कर लेनी है। जैसे रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया पूरी होगी। उसके बाद फील रजिस्ट्रेशन एडमिशन फॉर्म का ऑप्शन दिखेगा, जिस पर क्लिक करते ही ऐडमिशन फॉर्म खुल जाएगा जिसमें 5 कॉलम होंगे अप्लाई फॉर, पर्सनल डिटेल, कॉन्टैक्ट डिटेल, एजुकेशन डिटेल व डॉक्यूमेंट प्रूफ। सभी कॉलम को भरने के बाद आखिर वाले कॉलम डॉक्यूमेंट प्रूफ में मांगे गए दस्तावेजों को स्कैन कर सबमिट कर देना है। उसके बाद पेमेंट मोड में जाकर क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड के माध्यम से ऑनलाइन पेमेंट की प्रक्रिया पूरी करनी है। इस प्रकार ऑनलाइन नामांकन की प्रक्रिया पूरी की जा सकती है।

*क्या कहते हैं कुलसचिव*
आईसेक्ट विश्वविद्यालय के बारे में ज़िक्र करते हुए विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ मुनीष गोविंद कहते हैं कि शुरुआती दिनों से ही आधुनिक तकनीकों का प्रयोग विश्वविद्यालय में जारी शिक्षण कार्यों में होता रहा है। यही वजह है कि महज 4 वर्ष के दौरान ही इस विश्वविद्यालय को वर्ल्ड एजुकेशन अवार्ड, नेशनल एजुकेशन अवार्ड, झारखंड की शान अवार्ड, द मोस्ट इन्नोवेटिव प्राइवेट यूनिवर्सिटी अवार्ड, सीएसआर टॉप यूनिवर्सिटी ऑफ इंडिया अवार्ड, इमर्जिंग अवार्ड, आइसोचेम अवार्ड जैसे कई महत्वपूर्ण सम्मानों से सम्मानित किया जा चुका है। उन्होंने बताया कि कोरोना काल के विद्यार्थियों की पढ़ाई बाधित ना हो, इसी के मद्देनजर ऑनलाइन प्रवेश प्रक्रिया शुरू की गई है‌‌। साथ ही ऑनलाइन कक्षाएं, ऑनलाइन प्लेसमेंट, ऑनलाइन निःशुल्क कैरियर काउंसलिंग जारी है। उन्होंने बताया कि समय-समय पर वेबीनार के माध्यम से विद्यार्थियों का मार्गदर्शन किया जा रहा है ताकि विद्यार्थी कोरोना काल में भी अपनी मंजिल पाने की गति को धीमा ना कर सके।

<>

href="https://chat.whatsapp.com/IsDYM9bOenP372RPFWoEBv">

ADVERTISMENT

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Before Author Box 300X250
Advt.