Samridh Samachar
News portal with truth

- Sponsored -

बेरमो-दुमका उपचुनाव में जनता भाजपा को देगी करार जवाब : शमशेर आलम

Below feature image Mobile 320X100

गिरिडीह : झारखंड प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रदेश प्रवक्ता शमशेर आलम ने गुरुवार को गिरिडीह में केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि वैश्विक महामारी कोविड -19 कोरोना संक्रमणकाल में झारखंड जैसे आदिवासी बहुल और गैर भाजपाशासित राज्य के साथ पक्षपातपूर्ण रवैये की खिलाफ आवाज उठाने और चरणबद्ध आंदोलन के लिए प्रतिबद्ध है ।

 

केंद्र सरकार और केंद्रीय उपक्रमों के पास झारखंड का करीब 75 हजार करोड़ रुपये का बकाया है , लेकिन केंद्र सरकार इस राशि को देने के बजाय संकट की इस घड़ी में झारखंड जैसे पिछड़े राज्यों से ही गलत और अलोकतांत्रिक तरीके से अचानक 1417 करोड़ रुपये आरबीआई के माध्यम से डीवीसी के बकाया राशि के रूप में वसूल लेती है।

 

इतनी बड़ी राशि से कोरोना काल में संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए आवश्यक स्वास्थ्य उपकरण , पीपीई किट और अन्य जांच की व्यवस्था हो सकती थी , लोगों को रोजगार मुहैय्या करायी जा सकता था , अधूरी लटकी विकास परियोजनाओं को गति दी जा सकती थी , लेकिन आदिवासी विरोधी केंद्र सरकार के नकारात्मक और असहयोगात्मक रवैये के कारण झारखंड के समक्ष बड़ी मुश्किल उत्पन हुई है ।

विज्ञापन

विज्ञापन

कहा कि केंद्र सरकार के पास झारखंड सरकार का अभी 2982 करोड़ रुपये जीएसटी कंपनसेशन मद में बकाया है । वहीं 38600 करोड़ रुपये कोल इंडिया और सेल पर खान विभाग का बकाया है । इसके अलावा 33000 करोड़ रुपये कोल कंपनियों पर लगान का बकाया है । लोकसभा चुनाव में झारखंड में 14 में से 12 एनडीए के सांसद चुनाव जीतने में सफल रहे , अभी उनकी बोलती है । भाजपा के तीन – तीन पूर्व मुख्यमंत्री और एक केंद्रीय मंत्री को भी शासन का लंबा अनुभव रहा राशि कटौती के मसले पर उनसभी ने भी बोलती बंद हो गयी है ।

कोरोना काल में प्रदेश भाजपा कार्यालय में साढ़े छः किलो का ताला लगाकर अपने घरों में मक्खन – रोटी खाने वाले और अपने नेताओं को अंगरक्षक मुहैय्या कराने समेत हर छोटी – छोटी बातों पर मुख्यमंत्री को बड़ी – बड़ी चिट्ठी लिखने वाले भाजपा नेताओं को अब इस संबंध में प्रधानमंत्री को भी पत्र लिखकर झारखंड के हितों की रक्षा की अपील करनी चाहिए ।

केन्द्र सरकार द्वारा राज्य के खजाने पर आक्रमण

उन्हें बताना चाहिए कि झारखंड सरकार के पास आय के श्रोत सीमित है । ऐसे में कोविड -19 के आपातकाल में कर संग्रह भी कम हुआ है । पहले से ही राज्य की सरकार आर्थिक संकट से जूझ रही है । दूसरी ओर केन्द्र सरकार द्वारा राज्य के खजाने पर आक्रमण किये जा रहे हैं , वहीं राज्य सरकार का बकाया भी नहीं दिया जा रहा है । वहीं बेरमो और दुमका उपचुनाव को लेकर उन्होंने कहा कि जनता चुनाव में भाजपा नेताओं को करार जवाब देगी।

<>

- Sponsored -

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Before Author Box 300X250
Advt.